हिंदी काव्य में छंद का महत्व
व्यंग्यात्मक अलंकार – अतिशयोक्ति