गाँधी हिन्दुस्तानी भाषा के समर्थक थे
अक्षरों को मन्त्र बना देती हैं मात्राएँ