अक्षरों को मन्त्र बना देती हैं मात्राएँ
ध्वन्यात्मक, गलती, अर्थ का अनर्थ