चुनाव, भाषा और लोकतंत्र